Latest Or New Shayari In Hindi 2020

Hello Welcome to Whatsappcity.in We have updated collection of latest Rajput Shayari & Images for Whatsapp, Instagram, Facebook. We Kept updating on Rajpoot Zindgi Shayari 2020. rajputana andaz status shayari,rajput dosti shayari in hindi,rajput shayari 2020,shayari in hindi rajput ki,rajput shayari image,rajputana shayari gujarati,rajput shayari in english,rajput ki shayari. Enjoy your read.
 


New Shayari In Hindi 2020



नज़रे करम मुझ पर इतना न कर,
की तेरी मोहब्बत के लिए बागी हो जाऊं,
मुझे इतना न पिला इश्क़-ए-जाम की,
मैं इश्क़ के जहर का आदि हो जाऊं।



हमें सीने से लगाकर हमारी सारी कसक दूर कर दो,
हम सिर्फ तुम्हारे हो जाऐ हमें इतना मजबूर कर दो।



अपनी कलम से दिल से दिल तक की बात करते हो
सीधे सीधे कह क्यों नहीं देते हम से #प्यार करते हो।



घायल कर के मुझे उसने पूछा,
करोगे क्या फिर मोहब्बत मुझसे,
लहू-लहू था दिल मेरा मगर
होंठों ने कहा बेइंतहा-बेइंतहा।



नहीं है अब कोई जुस्तजू इस दिल में ए सनम,
मेरी पहली और आखिरी आरज़ू बस तुम हो।



खड़े-खड़े साहिल पर हमने शाम कर दी,
अपना दिल और दुनिया आप के नाम कर दी,
ये भी न सोचा कैसे गुज़रेगी ज़िंदगी,
बिना सोचे-समझे हर ख़ुशी आपके नाम कर दी।



 
मैंने हर एक सांस अपनी तुम्हारे नाम कर दी,
लोगो में ये ज़िन्दगी बदनाम कर दी,
अब ये आइना भी किस काम का मेरे,
मैंने तो अपनी परछाई भी तुम्हारे नाम कर दी।



आरज़ू वस्ल की रखती है परेशाँ क्या क्या,
क्या बताऊँ कि मेरे दिल में हैं अरमाँ क्या क्या,
ग़म अज़ीज़ों का हसीनों की जुदाई देखी,
देखें दिखलाए अभी गर्दिश-ए-दौराँ क्या क्या।



होंठो पर देखो फिर आज मेरा नाम आया है,
लेकर नाम मेरा देखो महबूब कितना शरमाया है,
पूछे उनसे मेरी आँखें कितना इश्क है मुझसे,
पलके झुकाके वो बोले कि मेरी हर साँस में बस तू ही समाया है।


 ये ज़रूरी नहीं है की हर बात पर तुम मेरा कहा मानो,
दहलीज पर रख दी है चाहत और अब आगे तुम जानो।

love Shayari

कड़क सर्दी में जलती हुई अलाव से हो तुम,
आँच हद से ज़्यादा हो तो भी दूर नहीं रहा जाता।



टपकती है निगाहों से... झलकती है अदाओं से,
मोहब्बत कौन कहता है की पहचानी नहीं जाती ?


 
हम से न हो सकेगी मोहब्बत की नुमाइश,
बस इतना जानते है तुम्हे चाहते है हम।



ख्वाहिश-ए-ज़िंदगी बस
इतनी सी है अब मेरी,
कि साथ तेरा हो और
ज़िंदगी कभी खत्म न हो।



निगाहों से खीची है तस्वीर मैने,
जरा अपनी तस्वीर आकर तो देखो,
तुम्हीं को इन आँखो में तुमको दिखाऊँ,
इन आँखो मे आँखे मिलाकर तो देखो।



बिन बोले जो तुम कहते हो
बिन बोले ही वो सुन लूँ मैं,
भरके तुमको इन आँखों में
कुछ ख्वाब नए से बुन लूँ मैं।



 
मेरे होंठो पर लफ्ज़ भी अतेरे जिक्र से महकते हैं तेरे सजदे में बिखर जाते हैं।ब तेरी तलब लेकर आते हैं,



 हम तो तेरी आवाज़ से प्यार करते हैं,
तस्सवुर में तेरे तन्हाइयों से प्यार करते हैं,
जो मेरे नाम से तेरे नाम को जोड़े ज़माने वाले,
उन चर्चों से अब हम प्यार करते हैं।


 ऐसा क्या बोलूं कि तेरे दिल को छू जाए,
ऐसी किससे दुआ मांगू कि तू मेरी हो जाए,
तुझे पाना नहीं तेरा हो जाना है मन्नत मेरी,
ऐसा क्या कर दूं कि ये मन्नत पूरी हो जाए।


क्या चाहूँ रब से तुम्हें पाने के बाद,
किसका करूँ इंतज़ार तेरे आने के बाद,
क्यों मोहब्बत में जान लुटा देते हैं लोग,
मैंने भी यह जाना इश्क़ करने के बाद।


 भूल जाता हूँ मैं सबकुछ आपके सिवा, यह क्या मुझे हुआ है,
क्या इसी एहसास को दुनिया ने इश्क़ का नाम दिया है।


 कोई तीर जैसे दिल के पार हुआ है,
जाने क्यों इतना बेक़रार हुआ है दिल,
पहले कभी देखा न मैंने तुम्हें,
फिर भी क्यों ऐ अजनबी इस कदर तुमसे प्यार हुआ है।


 यूँ तो आरजूएं दिल में ना थी हमें लेकिन,
ना जाने तुझे देखकर क्यों आशिक़ बन बैठे,
बंदगी तो रब की भी करते थे हम लेकिन,
ना जाने क्यों हम तेरे लिए काफ़िर बन बैठे।


इश्क के ये कैसे अफ़साने हुए,
खुद नज़रों में अपनी बेगाने हुए,
अब ज़माने की नहीं कोई परवाह हमें,
इश्क़ में तेरे इस कदर दीवाने हुए। 


 वो सपना फिर से सजाने चला हूँ,
उमीदों के सहारे दिल लगाने चला हूँ,
पता है कि अंजाम बुरा ही होगा मेरा,
फिर भी किसी को अपना बनाने चला हूँ।


 दिल की धड़कन और मेरी सदा है तू,
मेरी पहली और आखिरी वफ़ा है तू,
चाहा है तुझे चाहत से भी बढ़ कर,
मेरी चाहत और चाहत की इंतिहा है तू।


 
चाहत है या दिल्लगी या यूँ ही मन भरमाया है,
याद करोगे तुम भी कभी किससे दिल लगाया है।


 ऐ शख्स तेरा साथ मुझे हर शक्ल में मंज़ूर है,
यादें हों कि खुशबू हो, यक़ीं हो कि ग़ुमान हो।


खुदा करे वो मोहब्बत जो तेरे नाम से है,
हजार साल गुजरने पे भी जवान ही रहे। 


तुम मिल गए तो मुझ से नाराज है खुदा,
कहता है कि तू अब कुछ माँगता नहीं है।


 
तेरे रुखसार पर ढले हैं मेरी शाम के किस्से,
खामोशी से माँगी हुई मोहब्बत की दुआ हो तुम।


न जाने किस तरह का इश्क कर रहे हैं हम,
जिसके हो नहीं सकते उसी के हो रहे हैं हम।


 
धोखा ना देना कि तुझपे ऐतबार बहुत है,
ये दिल तेरी चाहत का तलबगार बहुत है,
तेरी सूरत ना दिखे तो दिखाई कुछ नहीं देता,
हम क्या करें कि तुझसे हमें प्यार बहुत है।


कभी दोस्ती कहेंगे कभी बेरुखी कहेंगे,
जो मिलेगा कोई तुझ सा उसे ज़िन्दगी कहेंगे,
तेरा देखना है जादू तेरी गुफ़्तगू है खुशबू,
जो तेरी तरह चमके उसे रोशनी कहेंगे


चुराकर दिल मेरा वो बेखबर से बैठे हैं,
मिलाते नहीं नजर हमसे अब शरमाये बैठे हैं,
देख कर हमको छुपा लेते हैं चेहरा आँचल में,
अब घबरा रहे हैं कि वो क्या कर बैठे हैं। 


मोहब्बत की कहूँ देवी या तुमको बंदगी कह दूँ,
बुरा मानो न गर हमदम तो तुमको ज़िन्दगी कह दूँ।


 
मेरी तकदीर संवर जाये उजालों की तरह,
आप मुझे चाह लें अगर चाहने वालों की तरह।


जिंदगी बहुत खूबसूरत है सब कहते थे,
जब तुम्हें देखा यकीन मुझको हो गया। 


 
कुछ यूँ उतर गए हो मेरी रग-रग में तुम,
कि खुद से पहले एहसास तुम्हारा होता है।


महका सा दिन महकती सी रात आए,
तुम कहो तो खुशबू सी कोई बात आए।


 किस किस तरह छुपाऊं अब मैं तुम्हें,
मेरी मुस्कान में भी तुम नजर आने लगे हो।


 मैं कुछ न कहूँ और ये चाहूँ कि मेरी बात,
खुशबू की तरह उड़ के तेरे दिल में उतर जाए।


 

लत तेरी ही लगी है, नशा सरेआम होगा,
हर लम्हा जिंदगी का सिर्फ तेरे नाम होगा।


 
Previous
Next Post »